Katilana ada shayari status quotes sms – कातिल अदा शायरी इन हिंदी

ada shayari in hindi

अदा शायरी इन हिंदी : हेलो दोस्तों कैसे हो आप लगता है अच्छे ही होंगे स्वागत है आपका हमारे ब्लॉग में इस पोस्ट में हमने katil ada shayari status quotes sms इन हिंदी में लिखी है। ये शायरी उन लड़को के लिए है जो लड़कियों की खूबसूरत अदाओ पर मर मिटे है और उनपर कुछ बात कहना चाहते है बस थोड़े लफ्ज़ नहीं जोड़ पा रहे है। आप इन शायरियो को अपनी गर्लफ्रेंड या वाइफ को भी भेज सकते है।

पढ़ने के बाद अगर आपको masoom ada shayari in hindi पसंद आए तो इसे अपने सोशल मीडिया अकाउंट जैसे फेसबुक इंस्टाग्राम ट्विटर इत्याद पर जरूर शेयर करे ताकि और लोग भी इसे पढ़ सके। इस ब्लॉग में आपको हज़ारो शेर और शायरिया मिलेंगी जिन्हे आप पढ़ने का लुफ्त उठा सकते है धन्यवाद।

Katilana ada shayari status quotes sms – कातिल अदा शायरी इन हिंदी

Katilana ada shayari status
Katilana ada shayari status

इस सादगी पे कौन
ना मर जाए ऐ ख़ुदा
लड़ते हैं और हाथ में
तलवार भी नहीं है।

~मिर्ज़ा ग़ालिब

Isss saadagi pe kaun
Na mar jaye ae khuda
Ladte hain aur hath mee
Talvaar bhi nahi hai….!

~Mirza Gaalib

अंदाज अपना देखते हैं
शीशे में वो
और ये भी देखते हैं कोई
देखता ना हो।

~निज़ाम रामपुरी

Andaaz apna dekhte hai
Shishe mein wo
Aur ye bhi dekhte hai koi
Dekhta naa ho…!

~Nizam Rampuri

katil ada shayari in hindi

हया से सर झुका लेना
अदा से मुस्कुरा देना
हसीनों को कितना आसान है
बिजली गिरा देना।

~अकबर इलाहाबादी

Haya se sar jhuka lena
Ada se muskura dena
Hasino ko kitna aasan hai
Bijali gira dena…!

~Akbar Ilahabadi

ये जो सर नीचे
किए बैठे हैं
जान कितनों की
लिए बैठे हैं।

~जलील मानिकपूरी

Ye jo sar neeche
kiye baithe hai
Jaan kitno ki
liye baithe hai..!

~Jalil Manikpuri

पहले इसमें एक अदा थी
नाज़ था अंदाज़ था
रूठना अब तो तेरी आदत में
शामिल हो गया है।

~आग़ा शाएर क़ज़लबाश

Pehle isme ek ada thi
Naaz tha andaaz tha
Ruthna abb toh teri aadat mee
Shaamil ho gaya hai….!

~Aaga Shaer Kazalbash

आफ़त तो है
वो नाज़ भी अंदाज़ भी
लेकिन मरता हूँ मैं जिसपर
वो अदा और ही कुछ है।

~अमीर मीनाई

Aafat toh hai
Wo naaz bhi andaaz bhi
Lekin marta hu mai jispar
Wo ada aur hi kuch hai….!

~Amir Minai

masoom ada shayari

आपने तस्वीर भेजी
मैन देखी गौर से
हर अदा अच्छी मगर
ख़मोशी की अदा अच्छी नहीं।

~जलील मानिकपूरी

Aapne tasvir bheji
Maine dekhi gour se
Har ada achi magar
Khamoshi ki ada achi nahi

~Jalil Manikpuri

अदा से देखलो जाता रहे
गिला दिल का
बस एक निगाह पे ठहरा है
फ़ैसला दिल का।

~अरशद अली ख़ान क़लक़

Ada se dekhlo jata rahe
Gila dil ka
Bas ek nigah pe tehra hai
Faisla dil ka…!

~Arshad Ali Khan Kalak

गुल हो महताब हो
आईना हो ख़ुर्शीद हो मीर
अपना महबूब वही है
जो अदा रखता हो।

~मीर तक़ी मीर

Gul ho mehtaab ho
Aaina ho khurshid ho mir
Apna mehboob wahi hai
Jo ada rakhta ho….!

~Mir-taqi-mir

अदा शायरी इन हिंदी

अदाएँ देखने बैठे हो क्या
आईने में अपनी
दिया है जिसने तुम जैसे को दिल
उसका जिगर तो देखो।

~बेख़ुद देहलवी

Adaye dekhne baithe ho kya
Aaine mein apni
Diya hai jisne tum jaise ko dil
Uska jigar toh dekho

~Bekhud Dehlvi

अदा शायरी इन हिंदी
अदा शायरी इन हिंदी

करे है दुश्मनी भी
वो इस अदा से लगे है कि
जैसे मोहब्बत कर रहे है।

~कलीम आजिज़

Kare hai dushmani bhi
Wo iss ada se lage hai ki
Jaise mohabbat kare rahe hai

~Kalim Aaziz

उम्रभर मिलने नहीं देती हैं
अब तो रंजिशें
वक़्त हमसे रूठ जाने की
अदा तक ले गया।

~फ़सीह अकमल

Umrabhar milne nahi deti hai
Abb toh ranjishe
Waqt humse ruth jane ki
Ada tak le gaya…!

~Fasih Akmal

aap ki ada shayari hindi

इस अदा से मुझे
सलाम किया
एक ही आन में
ग़ुलाम किया

~आसिफ़ुद्दौला

Iss ada se mujhe
Salam kiya
Ek hi aan mein
Gulam kiya…!

~Aashifudoula

तन्हा वो आए जाए
ये है शान के ख़िलाफ़
आना हया के साथ है
जाना अदा के साथ।

~जलील मानिकपूरी

Tanha wo aaye jaaye
Ye hai shaan ke khilaaf
Aana haya ke saath hai
Jaana ada ke saath….!

~Jalil Manikpuri

uff teri ada shayari

वो कुछ मुस्कुराना
वो कुछ शर्मा जाना
जवानी अदाए है
सिखाती हैं क्या क्या।

~बेख़ुद देहलवी

Wo kuch muskurana
Wo kuch sharma jana
Jawani adaaye hai
Sikhaati hai kya kya..!

~Bekhud Dehlvi

मार डाला मुस्कुराकर
नाज़ से
हा मेरी जाँ फिर वही
अंदाज़ से।

~जलील मानिकपूरी

Maar dala muskurakar
naaz se
Ha meri ja phir wahi
andaaz se….!

~Jalil Manikpuri

बेख़ुद भी हैं होशियार भी हैं
देखने वाले इन मस्त निगाहों
की अदा और ही कुछ है।

~अबुल कलाम आज़ाद

Bekhud bhi hai hoshiyar bhi hai
Dekhne wale inn mast nigaho
Ki ada aur hi kuch hai…!

~Abul Kalam Azad

फूल कह देने से
उदास कोई होता है
सब अदाए तेरी अच्छी हैं
नज़ाकत के सिवा।

~जलील मानिकपूरी

Phool keh dene se
Udaas koi hota hai
Sab adae teri achi hai
Nazakat ke siva…!

~Jalil Manikpuri

इस अदा से वो जफ़ा
करते हैं
कोई जाने की वफ़ा
करते हैं

~दाग़ देहलवी

Iss ada se wo zafa
karte hai
Koi jaane ki wafa
karte hai

~Daaf Dehlvi

कातिल अदा शायरी इन हिंदी

शिकायतों की अदा भी
बड़ी निराली है
वो जब भी मिलता है झुककर
सलाम करता है।

~ज़फ़र सहबाई

Shikayato ki ada bhi
badi nirali hai
Wo jab bhi milta hai jhukkar
salam karta hai…!

~Jafar Sehbai

aap ki ada shayari hindi
aap ki ada shayari hindi

बिछड़ा कुछ इस अदा से कि
रुत ही बदल गई
एक शख़्स सारे शहर को
वीरान कर गया।

~ख़ालिद शरीफ़

Bichda kuch iss ada se ki
rut hi badal gayi
Ek shaqs saare seher ko
viraan kar gaya…!

~Khaalid Sharif

कुछ इस अदा से आपने
पूछा मेरा मिज़ाज
कहना पड़ा कि शुक्र है
परवरदिगार का।

~जलील मानिकपूरी

Kuch iss ada se aapne
pucha mera mizaz
Kehna pada ki shukra hai
parvadigaar ka….!

~Jalil Manikpur

katilana ada shayari

नज़र रखते हैं उसकी
हर अदा पर
वास्तव में बे खबर
होते हुए भी।

~सय्यद रियाज़ रहीम

Nazar rakhte hai uski
har ada par
Vaastav mein be khabar
hote hue bhi…!

~Sayed Riyaz Rahim

गुज़रा मेरे क़रीब से वो
इस अदा के साथ
रस्ते को छूके जिस तरह
रस्ता गुज़र गया।

~फ़हीम शनास काज़मी

Guzra mere karib se wo
Iss ada ke saath
Raste ko chuke jis tarah
Rasta guzar gaya…!

~Fahim Shanas Kaazmi

तुम फिर उसी अदा से
अंगड़ाई लेके हँस दो
आ जाएगा पलटकर
गुज़रा हुआ ज़माना।

~शकील बदायुनी

Tum phir ussi ada se
Angadai leke hus do
Aa jayega palatkar
Guzra hua zamana…!

~Shakil Badayuni

क्या काम किया तुमने
थी ये भी अदा कोई
पर्दे से निकल आना
और जी में समा जाना।

~मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी

Kya kaam kiya tumne
Thi ye bhi ada koi
Parde se nikal aana
Aur ji mein sama jana

~Mashafi Gulam Humdani

uff yeh adayein shayari

मेहंदी लगाए बैठे हैं
कुछ इस अदा से वो
मुट्ठी में उनकी दे दे
कोई दिल निकाल के।

~रियाज़ ख़ैराबादी

Mehendi lagaye baithe hai
Kuch iss ada se wo
Mutthi mein unki de de
Koi dil nikaal ke…!

~Riyaz Khairabadi

वस्ल है उनकी अदा
हिज्र है उनका अंदाज़
कौन सा रंग भरूँ
इश्क़ के अफ़्सानों में।

~मख़दूम मुहिउद्दीन

Vasal hai unki ada
Hizra hai unka andaaz
Kon sa rang bharu
Ishq se afsaano mein…!

~Makhdoom Muhiudin

क्या जाने किस अदा से
लिया तूने मेरा नाम
दुनिया समझ रही है कि
सचमुच तेरा ही हूँ मैं।

~क़तील शिफ़ाई

Kya jane kis ada se
Liya tune mera naam
Duniya samajh rahi hai ki
Sach mooch tera hi hu main..!

~Katil Shifai

अदा शायरी इन हिंदी

रंग तेरा उड़ा उड़ा सा है
लग गई है तुझे नज़र शायद।

~प्रेम भण्डारी

Rang tera uda uda sa hai
Lag gayi hai tujhe nazar shayad…!

~Prem Bhandari

katil ada shayari in hindi
katil ada shayari in hindi

कुछ इस अदा से
आज वो साथ रहे
जबतक साथ रहे
हम हम नहीं रहे।

~जिगर मुरादाबादी

Kuch iss ada se
Aaj wo sath rahe
Jabtak sath rahe
Hum hum nahi rahe

~Jigar Muradabadi

उस दिलनशी अदा का
मतलब कभी ना समझे
जब हमने कुछ कहा है
वो मुस्कुरा दिए हैं।

~वहशत रज़ा अली कलकत्वी

Uss dilnashi ada ka
Matlab kabhi na samjhe
Jab humne kuch kaha hai
Wo muskura diye hai…!

~Vahshat Raza Ali Kalaktvi

uff teri ada shayari

क्या अदा से आए है
दीवाना करके सबको
फूल कानों में तो हैं
मगर कांटे हाथो में है।

~मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी

Kya ada se aaye hai
Diwana karke sabko
Phool kano mein toh hai
Magar Kante hatho mee hai

~Mushafi Gulam Humdani

एक अदा मस्ताना
सर से पाँव तक छाई हुई
उफ़ तेरी काफ़िर
जवानी जोश पर आई हुई।

~दाग़ देहलवी

Ek ada mastana
Sar se paav tak chai hui
Uff teri kaafir
Jawani josh par aayi hui

~Daag Dehlvi

यूँ मिला वो
ना मिला हो जैसे
ये भी एक उसकी
अदा हो जैसे।

~शबीहुल हसन

Yu mila wo
Naa mila ho jaise
Ye bhi ek uski
Ada hai jaise…!

~Shabihul Hasan

मुस्कुराकर देख
लेते हो मुझे
इस तरह क्या हक़
अदा हो जाएगा।

~अनवर शऊर

Muskurakar dekh
lete ho mujhe
Iss tarah kya haq
ada ho jayega…!

~Anwar Shaur

कुछ इतनी रौशनी में थे
चहरों के आइने
दिल उसको ढूँढता था
जिसे जानता ना था।

~अदा जाफ़री

Kuch itni roshni mee the
chehro ke aaine
Dil usko dhundta tha
jise janta na tha….!

~Ada Jaafri

ख़ामुशी से हुई या
शोर से हुई
शुरआत दुख की
कहाँ से हुई

~अदा जाफ़री

Khamoshi se hui ya
shor se hui
Shuruaat dukh ki
kaha se hui….!

रूबरू हैं सैकड़ों लेकिन
नहीं तेरा जवाब
दिलरुबाई में अदा में
नाज में अंदाज में।

~लाला माधव राम जौहर

Rubaru hai saikado lekin
nahi tera jawab
Dilrubaai mein ada mein
naaz mein andaaz mee….!

~Laal Madhav Ram Jouhar

अदा शायरी इन हिंदी

वो पहली सब वफाए क्या हुईं
अब ये जफ़ा कैसी
वो पहली सब अदाए क्या हुईं
अब ये अदा क्यू है।

~मुज़्तर ख़ैराबादी

Wo pehli sab wafaye kya hui
Abb ye zafa kaisi
Wo pehli sab adaye kya hui
Abb ye ada kyu hai…!

~Muztar Khairabadi

uff yeh adayein shayari
uff yeh adayein shayari

नया बिस्मिल हूँ मैं
वाकिफ नहीं शहादत से
बता दे तू ही ऐ जालिम
तड़पने की अदा क्या है।

~चकबस्त ब्रिज नारायण

Naya bismil hu main
Waakif nahi shahadat se
Bata de tu hi ae zaalim
Tadapne ki ada kya hai…!

~Chakbust Bizra Narayan

थोड़ा तो नज़दीक आओ
मुझे तुमसे प्यार है और
दिल तुम्हारी अदाए देखे
बगैर रह नहीं सकता।

Thoda toh nazdik aao
Mujhe tumse pyar hai aur
Dil tumhari adae dekhe
Begair reh nahi sakta..!

shayari on ada of a girl

उसकी ये आदत मुझे
बोहोत अच्छी लगती है
नाराज़ होती है मुझसे
गुस्सा सब पर होती है।

Uski ye aadat mujhe
Bohot achi lagti hai
Naraz hoti hai mujhse
Gussa sab par hoti hai

वो मुझसे प्यार करते है
और बदले में ज्यादा करते है
ये अदा उनके प्यार की निशानी है।

Wo mujhse pyar karte hai
Aur badle mein jyada karte hai
Ye ada unke pyar ki nishaani hai

नाराज़ होना उनकी अदा है
और उन्हें मनाते रहना
हमारी आदत है।

Naraz hona unki ada hai
Aur unhe manate rehna
Hamari aadat hai….!

हमारे दिल की बात
उनके ज़ुबा पर आ जाती है
बस उनकी ये अदा ही
हमारे लिए काफी है।

Hamare dil ki baat
Unke zuba par aa jati hai
Bas unki ye ada hi
Hamare liye kaafi hai…!

खामोश होकर भी
आँखों से बात करती हो
ये अदा पहले से थी या
हमसे प्यार करके आ गई।

Khaamosh hokar bhi
Aankho se baat karti ho
Ye ada phele se thi ya
Humse pyaar karke aa gayi

तेरी हर अदा को जानता हू मै
मैं तुझसे कितना भी प्यार करू
तू मुझे सिर्फ काफ़िर ही समझेगी।

Teri har ada ko jaanta hu mai
Main tujhse kitna bhi pyar karu
Tu mujhe sirf kaafir hi samjhegi…!

बस हमसे और रहा नहीं जाता
तुम्हारी गुमसुम रहने की ऐडा
हमें अंदर ही अंदर सता रही है..!

Bas humse aur raha nahi jaata
Tumhari gumsum rehne ki ada
Hame ander hi ander sata rahi hai..!

बड़ी अजीब सी अदा है उनकी
नाराज़गी भी हमसे और
नज़रे भी हम पर ही।

Badi ajeeb si ada hai unki
Narazagi bhi humse aur
Nazre bhi hum par hi…!

कातिल अदा शायरी इन हिंदी

ये प्यारी सी हसी उनकी और
ये लहराते हुए उनके बाल
एक अदा से नज़र हेट तो
उनकी दुसरी अदा फसा लेती है।

Ye pyari si hasi unki aur
Ye lehrate hue unke baal
Ek ada se nazar hate toh
Unki dusri ada fasa leti hai

कातिल अदा शायरी
कातिल अदा शायरी

उनकी हसी ने हमारे
होश ही उड़ा दिए थे
हम जब होश में आए
तो वो फिर मुस्कुरा दिए।

Unki hasi ne hamare
Hosh hi udaa diye the
Hum jab hosh mee aaye
Toh wo phir muskura diye

मत करो ज़िक्र उनकी अदा के बारे में
वो मोहब्बत तो करते हैं मगर
नहीं पता उन्हे वफ़ा के बारे में
उन्हे शॉक तो बहुत है प्यार का
पर ये नहीं पता करते कैसे हैं।

Mat karo zikra unki ada ke baare mee
Wo mohabbat toh karte hai magar
Nahi pata unhe wafa ke baare mee
Unhe shouk toh bohot hai pyaar ka
Par ye nahi pata karte kaise hai…!

uff yeh adayein shayari

मेरे अल्फाज़ फ़िके है
तेरी अदा के सामने
मैंने तुझे खुदा कहां
मेरे खुदा के सामने।

Mere alfaaz fike hai
Teri adaa ke saamne
Maine tujhe khuda kaha
Mere khuda ke saamne

जा रहे हैं हम वहा
जहां हमारी क़द्र हो
तुम आईने को अपनी
अदाए दिखती रहना।

Ja rahe hai hum waha
Jaha hamari kadra ho
Tum aaine ko apni
Adae dikhati rehna…!

मेरी जान की है प्यारी सी अदा
हर बात है उनकी सबसे पहले
नाराज़ हो तो कातिल से कम नहीं
महरबा हो जाए तो लगती है खुदा।

Meri jaan ki hai pyari se ada
Har baat hai unki sabse juda
Naraz ho toh kaatil se kum nahi
Meherba ho jaye toh lagti hai khuda

तेरे प्यार में मिला है
दर्द इतना
की तेरे बाद अब कोई अच्छा
ना लागे
तुझे करनी है बेवफाई तो
इस तरह कर
फिर तेरे बाद हमें कोई बेवफा
ना लगे।

Tere pyar mein mila hai
dard itna
Ki tere baad abb koi acha
naa lage
Tujhe karni hai bewafai toh
iss tarah kar
Phir tere baad hame koi bewafa
naa lage….!

मेरे सामने आकार नज़रे
झुका लेती हो
जब हम करीब आते हैं तो
मुसकुरा देता हो
और क्या क्या अदाए बताए
हम आपकी
जब बहो में होती हो तो
प्यार देता हो।

Mere saamne aakar nazre
jhuka leti ho
Jab hum karib aate hai toh
muskura deti ho
Aur kya kya adae bataye
hum aapki
Jab baho mein hoti ho toh
pyar deti ho…!

ये कैसा मौसम आज हो गया है
आप जिस अदा से आज घबराए हैं
याद तो हम करते रहे आपको पर
आँखों में आँसू आपके नज़र आए हैं।

Ye kaisa mousam aaj ho gaya hai
Aap jis ada se aaj ghabraaye hai
Yaad toh hum karte rahe aapko par
Aankho mein aansu aapke nazar aaye hai

गलती करती हो तुम और
फिर मासूम भी बनती हो
ये अदा हमें समझ नहीं आई।

Galti karti ho tum aur
Phir masoon bhi banti ho
Ye ada hame samajh nahi aayi…!

अदा शायरी इन हिंदी

बातो बातो में दिल चुरा लेती हो
देखती हो तुम ऐसे जान ले लेती हो
आपकी अदा पे दिल रुक सा जाता है
लेकर बाहो में हमें सुकून देती हो।

Baato baato mein dil chura leti ho
Dekhti ho tum aise jaan le leti ho
Aapki ada pe dil ruk sa jaata hai
Lekar baho mein hame sukun deti ho…!

हसना मुस्कुराना तो
हर लड़की की अदा होती है
आगर इसे कोई प्यार समझे
तो फिर वो गया काम से।

Hasna muskurana toh
Har ladki ki ada hoti hai
Agar isse koi pyar samjhe
Toh phir wo gaya kaam se..!

कैसे साबित करू की
तुम्हें बोहोत याद करते हैं
एहसास कभी तुम्हें हुआ नहीं
और अदाए कभी हमें आई नही।

Kaise saabit karu ki
Tumhe bohot yaad karte hai
Ehsaas kabhi tumhe hua nahi
Aur adae kabhi hame aayi nahi….!

◼◼◼◼◼◼◼◼

Leave a Reply

Your email address will not be published.